एक मुद्रा कैरी ट्रेड की मूल बातें

एक व्यवसाय में निवेश

एक व्यवसाय में निवेश

Basic Financial Terms- Assessments- 7 TEC Answer Key 2020

Basic Financial Terms- Assessments- 7 TEC Answer Key 2020

Q1. What is the primary objective of a business? किसी व्यवसाय का प्राथमिक उद्देश्य क्या है?.


Make money for investors by providing goods or services माल या सेवाएं प्रदान करके निवेशकों के लिए पैसा कमाएं
Make money for retailers by providing goods for services सेवाओं के लिए सामान प्रदान करके खुदरा विक्रेताओं के लिए पैसे कमाएँ
Make money for customers by providing goods or services सामान या सेवाएं प्रदान करके ग्राहकों के लिए पैसे कमाएँ
Make money for employees by providing goods or services सामान या सेवाएं प्रदान करके कर्मचारियों के लिए पैसे कमाएँ

Q2. What are the key inputs of business? व्यवसाय के प्रमुख निवेश वस्तुएं क्या है?.

Q3. What is the output of the business? व्यवसाय का उत्पादन क्या है?.

Q4. What are the different forms of business? व्यवसाय के विभिन्न रूप क्या हैं?.


Sole proprietorship, Friendship,Corporations एकमात्र स्वामित्व, मैत्री(मित्रता), निगम
Sole proprietorship, Partnership,Corporations एकमात्र स्वामित्व, भागीदारी, निगम
Sole proprietorship, Partnership,Commemoration एकमात्र स्वामित्व, साझेदारी, स्मरणोत्सव(स्मारक समारोह) Sole presidentship, Partnership,Commemoration एकमात्र अध्यक्ष, भागीदारी, स्मरणोत्सव (स्मारक समारोह)

Q5. What is a Sole proprietorship? एकमात्र स्वामित्व क्या है?.


A single owner who is also usually responsible for the day-to-day running of the business एक अकेला मालिक जो आमतौर पर दिन-प्रतिदिन के व्यवसाय के लिए जिम्मेदार होता है
A single employee who is also usually responsible for the day-to-day running of the business एक अकेला कर्मचारी जो आमतौर पर दिन-प्रतिदिन के व्यवसाय के लिए जिम्मेदार होता है
A single retailer is also usually responsible for the day-to-day running of the business एक अकेला विक्रेता आम तौर पर दिन-प्रतिदिन के व्यवसाय के लिए जिम्मेदार होता है
A single partner who s also usually responsible for the day-to-day running of the business एक अकेला सहभागी जो आमतौर पर दिन-प्रतिदिन के व्यवसाय के लिए जिम्मेदार होता है

Q6. ___________ has multiple owners or partners, some of whom are also usually responsible for the day-to-day running of the business. ___________ के कई मालिक या साझेदार हैं, जिनमें से कुछ व्यवसाय के दिन-प्रतिदिन के चलने के लिए भी जिम्मेदार हैं।.

Q7. What is a corporation? निगम क्या है?.


A separate legal entity with a large number of owners बड़ी संख्या में मालिकों के साथ एक अलग कानूनी इकाई
A separate illegal entity with a large number of owners बड़ी संख्या में मालिकों के साथ एक अलग अवैध संस्था
Multiple owners or partners, some of whom are also usually responsible for the day-to-day running of the business कई मालिक या साझेदार, जिनमें से कुछ व्यवसाय के दिन-प्रतिदिन के चलने के लिए भी जिम्मेदार हैं
All of the above. ऊपर के सभी(उपरोक्त सभी)

Q8. Identify a non-example of accounting? लेखांकन का एक गैर-उदाहरण पहचानें?


How much value in rupees of goods or services has the business sold माल या सेवाओं के रुपये में कितना मूल्य है जो व्यवसाय ने बेचा है
List of investments in land, facilities, buildings, etc. the business made भूमि, सुविधाओं, भवनों, आदि में किए गए निवेश की सूची
Costs the business incurred. व्यवसाय में होने वाला खर्च।
List and details of favourite customers पसंदीदा ग्राहकों की सूची और विवरण

देहरादून: राज्य में 60 मोबाइल वेटनरी यूनिट शुरू

नाबार्ड द्वारा वित्त पोषित रूरल इंफ्रास्ट्रक्चर डेवलेपमेंड फंड (आईआरडीएफ) योजना के अंतर्गत पशुलोक ऋषिकेश में हीफर रियरिंग फार्म, रजिस्ट्रार, उत्तराखंड पशुचिकित्सा परिषद, देहरादून के परिसर में नवीन प्रशिक्षण केंद्र और राष्ट्रीय सहकारी विकास निगम योजना के अंतर्गत एकत्रीकरण सह प्रजनन फार्म का लोकार्पण किया।

साथ ही राष्ट्रीय गोकुल मिशन के अंतर्गत भारत सरकार द्वारा प्रायोजित नवीन अतिहिमीकृत वीर्य प्रयोगशाला का शिलान्यास किया गया। इससे राज्य में पशुओं में आर्टिफिशियल इंस्यूमिनेशन सेक्स शार्टेड सीमन को बढ़ावा दिया जायेगा। मुख्यमंत्री ने पशु चिकित्सकों को एन.पी.ए देने की भी घोषणा की।
टोल फ्री नंबर 1962 जारी मुख्यमंत्री ने कहा कि मोबाइल वेटनरी यूनिटों का आरंभ होने से राज्य के दूरस्थ पर्वतीय स्थानों पर आपातकालीन पशुचिकित्सा सेवाएं एवं पशुपालन संबंधी अन्य विभागीय सेवाएं आसानी से प्रदान की जा सकेंगी। इस सेवा के लिए टोल फ्री नंबर 1962 जारी किया गया है।

भारत सरकार की राष्ट्रीय गोकुल मिशन योजना के अंतर्गत श्यामपुर में नवीन प्रयोगशाला का भी शिलान्यास किया गया, जिससे पशुधन विकास में प्रदेश को लाभ मिल सकेगा। इस योजना के अंतर्गत नेशनल डिजिटल लाइवस्टॉक मिशन को चम्पावत एवं ऊधमसिंह नगर जिलों में भी प्रारंभ किया जा रहा है।

लाखों परिवारों की आर्थिकी की रीढ़ मुख्यमंत्री धामी ने राज्य को हर क्षेत्र में केंद्र सरकार का पूरा सहयोग मिलने पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एवं केंद्र सरकार का आभार जताते कहा कि पशुपालन एवं कृषि उत्तराखंड के लाखों परिवारों की आर्थिकी की रीढ़ है। 80 प्रतिशत से अधिक ग्रामीण परिवारों को रोजगार प्रदान करने वाला पशुपालन व्यवसाय न केवल उनकी आजीविका का मुख्य साधन है, बल्कि प्रदेश के संतुलित पोषण का भी मुख्य आधार है।

पशुपालन व्यवसाय का राज्य सकल घरेलू उत्पादन में 3 प्रतिशत योगदान है। सभी छोटे पशुपालकों व दुग्ध व्यवसायियों के सम्मिलित प्रयासों के फलस्वरूप आज देश डेरी पदार्थों के उत्पादन में शीर्ष पर है। पशुपालन व्यवसाय में निवेश ग्रामीण क्षेत्रों के विकास का भी मुख्य साधन हो सकता है। प्रधानमंत्री मोदी के कुशल नेतृत्व में पहली बार डेरी पशुओं का सबसे बड़ा डाटाबेस तैयार किया जा रहा है, जिसके अंतर्गत प्रत्येक डेयरी पशु को एक विशिष्ट टैग लगाया जा रहा है।

इस अवसर पर केंद्रीय राज्य मंत्री (पशुपालन एवं डेयरी विकास) एक व्यवसाय में निवेश डॉ. संजीव कुमार बालियान, कैबिनेट मंत्री गणेश जोशी, सौरभ बहुगुणा, मेयर सुनील उनियाल गामा, विधायक उमेश शर्मा काऊ, गो सेवा आयोग के अध्यक्ष राजेन्द्र अन्थवाल, सचिव पशुपालन भारत सरकार राजेश कुमार, सचिव आर. मीनाक्षी सुन्दरम्, बी.वी.आर.सी. पुरूषोत्तम, निदेशक पशुपालन डॉ. प्रेम कुमार मौजूद रहे।

प्लॉट लेते समय कौन सी बातों का रखें? ध्यान

प्लॉट लेते समय कौन सी बातों का रखें ध्यान

यदि हम कहीं प्लाट ले रहे हैं, तो हमें कुछ महत्वपूर्ण बातों का ध्यान रखना चाहिए और कई सावधानियां बरतनी चाहिए जैसे कि वह जमीन विवादित तो नहीं है. वह जमीन शहरी स्थान से दूर तो नहीं है, तो चलिए अब हम आपको बताते हैं, कि प्लॉट लेते समय कौन कौन सी सावधानियां बरतनी चाहिए, और किन बातों का ध्यान रखना चाहिए.

दलालों से सावधान रहें

प्लाट और संपत्ति के लेन देन में दलालों से बचें, यदि हो सके तो जमीन लेने के लिए जमीन के मालिक से संपर्क करें क्योंकि दलालों के माध्यम से जमीन लेने में नुकसान सहना पड़ सकता है, और यदि आप सीधे जमीन के मालिक से संपर्क करते हैं तो आप को कोई नुकसान नहीं सहना पड़ेगा.

लक्ष्य का अभाव

यदि आप प्लाट खरीद रहे हैं, तो आपको अपना एक लक्ष्य बनाना चाहिए जैसे कि आप प्लाट पर मकान बनाकर रहने के लिए खरीद रहे हैं, या प्लाट केबल व्यवसाय करने के लिए है, यह स्पष्ट होना चाहिए क्योंकि इन दोनों में बहुत अंतर होता है. क्योंकि अगर आप प्लॉट किसी निवेश के लिए ले रहे हैं तो आपको शहरी क्षेत्र में प्लॉट लेना चाहिए. जिससे कि आपका व्यवसाय बड़े. इसलिए प्लॉट लेने से पहले निर्धारित कर लेना चाहिए, कि आप प्लॉट किस उद्देश्य से ले रहे हैं.

सही जगह का चयन

यदि आप कहीं प्लॉट ले रहे हैं, तो सही जगह का चयन करें, और घर के बड़े बुजुर्ग से विचार विमर्श करें, इससे आपको सही स्थान पर प्लॉट लेने में सहायता मिलेगी, और ध्यान रहे जमीन लेने से पहले आप उस जमीन के आसपास की जगह ध्यानपूर्वक देख लेना चाहिए, कि उस प्लॉट के आसपास सभी प्रकार की सुविधाएं उपलब्ध एक व्यवसाय में निवेश है, जैसे- प्लॉट तक जाने के लिए मार्ग, प्लॉट के 100 मीटर के अंतर्गत बिजली के खंभे हैं, प्लॉट निचली जगह पर तो नहीं है, और जहां आप प्लॉट ले रहे हैं वह जमीन विवादित तो नहीं है, इन सभी बातों का ध्यान रखकर आपको प्लॉट लेना चाहिए.

सम्पत्ति पर कर्ज

यदि आप कहीं प्लॉट ले रहे हैं, तो उस प्लॉट के बारे में पूरी जानकारी प्राप्त कर लें कि उस प्लॉट पर मालिक ने कोई कर्ज तो नहीं लिया है. क्योंकि अगर आपने ऐसी जमीन ले ली है, तो उसके कर्ज के भुगतान की जिम्मेदारी आप पर ही होगी. क्योंकि कई लोग ऐसे होते हैं, जो जमीन को गिरवी रखकर कर्ज ले लेते हैं, और फिर उस जमीन को बेचने का प्रयास करते हैं, ऐसे में जमीन लेने से पहले आपको जमीन के बारे में पूरी जानकारी प्राप्त कर लेनी चाहिए.

एक व्यवसाय में निवेश

तीन व्यक्ति साझेदारी में ₹ 600, ₹ 800 तथा ₹ 1000 लगाते हैं। यदि ₹ 480 का मुनाफा हुआ, तो पहले व्यक्ति को कितना मिलेगा ?

[R.R.B. जम्मू (जू० क्लके) परीक्षा, 2001]

Question 2

दो साझेदार एक व्यवसाय में क्रमशः ₹ 9000 एवं ₹ 10500 का निवेश करते हैं। यदि पूंजी निवेश के अनुपात में ₹ 6500 का एक लाभ बांटना पड़ता है, तो द्वितीय साझेदार को मिलेगा-

(a) ₹ 3000
(b) ₹ 3500
(c) ₹ 4000
(d) ₹ 6000

[R.R.B. जम्मू (T.A.) परीक्षा, 2001]

Question 3

संयोग, किरण और किशोर ने एक दुकान क्रमशः ₹ 27000, ₹ 81000 और ₹ 72000 लगाकर खोली, एक साल के अन्त में लाभ तीनों में बाँटा गया। यदि किरण का लाभ-अंश ₹ 36000 है, तो कुल लाभ रहा होगा -

(a) ₹80000
(b) ₹ 98000
(c) ₹108000
(d) ₹ 116000

[R.R.B. सिकन्दराबाद ( गुड्स गार्ड ) परीक्षा, 2008]

Question 4

तीन भागीदार एक व्यवसाय में ₹ 2000, ₹ 2500 और ₹ 1000 लगाते हैं। लाभ ₹ 880 होने पर अन्तिम भागीदार को कितनी लाभ राशि मिलेगी?

Question 5

किसी पूंजी के साथ A, B और C साझेदार हैं जिसमें A का अंशदान ₹ 10,000 है। यदि 1000 के कुल लाम में से A को ₹ 500 मिलता है और B को ₹ 300 मिलता है, तो C की पूंजी है -

(a) ₹ एक व्यवसाय में निवेश 4000
(b) ₹ 5000
(c) ₹ 6000
(d) ₹ 9000

[R.R.B. बंग्लोर (A.S.M.) परीक्षा, 2004]

Question 6

किरण, संयोग और किशोर ने एक व्यवसाय ₹ 4700 से आरम्म किया। किरण ने संयोग से ₹ 500 अधिक लगाए और संयोग ने किशोर से ₹ 300 अधिक लगाए। यदि लाम ₹ 1410 है, तो किरण को कितना लामांश मिलेगा ?

Question 7

A, B, C किसी कारोबार के लिए ₹ 47000 अंशदान देते हैं। यदि A, B से ₹ 7000 अधिक और B, C से ₹ 5000 अधिक अंशदान देते हों, तो कुल लाम ₹ 9400 में से B प्राप्त करता है -

(a) ₹ 1737.90
(b) ₹ 2000
(c) ₹ 3000
(d) ₹ 4400

[R.R.B. बंग्लौर (A.S.M.) परीक्षा, 2004]

Question 8

किसी व्यापार में A और C की पूंजियों में 2:1 का अनुपात है, जबकि A और B की पूंजियों में 3: 2 का अनुपात है। यदि उनको ₹ 157300 का लाभ होता है, तो B को कितने रूपये लाभ में से मिलेंगे ?

Question 9

A और B ने एक संयुक्त कम्पनी शुरू की। A का निवेश B के निवेश का तिगुना था और उसकी निवेश की अवधि B के निवेश की अवधि की दोगुनी थी। अगर B को लाभ के तौर पर ₹ 4000 मिले तो उनके कुल लाम हैं -

(a) ₹ 24000
(b) ₹ 16000
(c) ₹ 28000
(d) ₹ 2000

Question 10

एक व्यापार में A, B, C तीनों साश्रेदारों को ₹ 95000 का कुल लाभ होता है। A ने कुल पूंजी का आधा, आधे समय के लिए लगाया है, B ने कुल पूंजी का एक-तिहाई, एक तिहाई समय के लिए लगाया है। तीसरे हिस्सेदार ने अपना हिस्सा पूरे समय के लिए लगाया है, तो B का लाभ में कितना हिस्सा होगा?

[R.R.B. महेन्द्वियाट (T.A.) परीक्षा, 2004]

Question 11

A, B और C एक चरागाह किराए पर लेते हैं, A उस पर 7 महीने तक 10 बैल चराता है, B उस पर 5 महीने तक 12 बैल और C उस पर 3 महीने तक 15 बैल चरता है। अगर चरागाह का किराया 175 रु० हो तो C को अपने हिस्से का कितना किराया देना होगा ?

[S.S.C. स्नातक स्तरीय परीक्षा, 2002 ( द्वितीय पाली )]

Question एक व्यवसाय में निवेश 12

X और Y का एक व्यापार में साझीदार है। X पूंजी का $\frac$ भाग 9 महीने के लिए लगाता है और Y लाभ का $\frac$ भाग प्राप्त करता है, तो Y का धन व्यापार में कितने महीने लगा था?

[R.R.B. सिकन्दराबाद (A.S.M.) परीक्षा, 2001]

Question 13

A, B एवं C ने मिलकर 3:4:5 के अनुपात में धन लगाकर एक व्यवसाय आरम्भ किया। 6 महीने बाद C ने अपने द्वारा लगाई धनराशि का आधा भाग निकाल लिया। यदि A द्वारा लगाई गयी धनराशि ₹ 27000 थी और वर्ष के अन्त में मुनाफा ₹ 86000 था, तो उस लाभ में A और C के हिस्से के बीच अन्तर क्या होगा ?

[R.R.B. रांची (T.A.) परीक्षा, 2004]

Question 14

A एक व्यवसाय ₹ 3500 से आरम्भ करता है, 5 महीने के बाद B उसका साझीदार बन जाता है, एक वर्ष बाद दोनों के बीच लाभ को 2:3 के अनुपात में विभाजित कर दिया जाता है, तो B का पूँजी निवेश ज्ञात कीजिए -

[R.R.B. रांदी T.A. 2008, स्नातक स्तरीय परीक्षा, 2000 ( दितीय पाली)]

Question 15

A, B और C साझेदारी में सम्मिलित हुए और उनकी पूंजियां $\frac:\frac:\frac$ के अनुपात में हैं। A, 4 महीने के अन्त में अपनी पूंजी का आधा वापस लेता है, तो कुल लाभ ₹ 847 में A का अंश है -

[R.R.B. त्रिवेन्द्रम ( डीजल/इले ० असिस्टेंट ) परीक्षा, 2004]

Question 16

एक व्यक्ति को कुल धन का 3/8 भाग मिला तथा उसके साझीदार को शेष धन का 3/8 भाग मिला। यदि दोनों के भागों का अन्तर ₹ 36 हो तो कुल धन था -

[R.R.B. रांची (T.A.) परीक्षा, 2005]

Question 17

A, B और C एक कम्पनी में हिस्सेदार है। किसी एक वर्ष में A को लाभ का $\frac$ भाग मिला, B को $\frac$ भाग मिला और C को ₹ 5000 । तब A को लाभ के फलस्वरूप कितने रुपये मिले?

[ भोपाल, A.S.M. 2007, S.S.C. स्नातक स्तरीय परीक्षा, 2001 ( प्रथम पाली )]

Question 18

दो आदमी रमेश और सुरेश क्रमशः ₹ 15000 और ₹ 25000 एक व्यापार में निवेश करते हैं। वर्ष के अन में दोनों को ₹ 10000 का लाभ होता है। वे अपने लाभ का 12% फिर से व्यापार में लगाते हैं। बची । राशि में से प्रत्येक ₹ 1000 लेते हैं तथा फिर बची हुई राशि उनके मूल निवेश के अनुपात के अनुसार बाट लेते हैं। तब रमेश का हिस्सा कितना होगा -

(a) ₹ 3300
(b) ₹ 3000
(c) ₹ 2925
(d) ₹ 3550

[R.R.B. महेन्दू घाट (T.A.) परीक्षा, 2004]

Question 19

एक व्यक्ति 3 विभित्र योजनाओं में 6 वर्ष, 10 वर्ष और 12 वर्ष के लिए क्रमशः 10%, 12% और 15% की दर पर धन निवेश करता है। प्रत्येक योजना की अवधि पूरी होने पर, उसे समान राशि मिलती है। उसके निवेशों का अनुपात क्या है ?

[भुवनेश्वर (A.S.M.), 2002]

Question 20

कोई व्यक्ति विभित्र योजनाओं में 10%, 12% और 15% की दर से क्रमशः 6 वर्ष, 10 वर्ष और 12 वर्ष के लिए धन का निवेश करता है, प्रत्येक योजना की अवधि समाप्त होने के पश्चात् उसे समान राशि प्राप्त होती है, उसके निविष्ट धन का अनुपात क्या था?

Cryptocurrency में निवेश से पहले न करें जल्दबाजी, जरूर याद रखें ये 10 बातें

Cryptocurrency Investment : क्रिप्टोकरेंसी निवेशकों के बीच निवेश का एक पॉपुलर टूल बन गई हैं, लेकिन यह अब भी जबरदस्त उतार-चढ़ाव का शिकार होने वाला डिजिटल असेट है. ऐसे में इस बाजार में निवेश करने से पहले कुछ चीजें हैं जो जानना जरूरी है.

Cryptocurrency में निवेश से पहले न करें जल्दबाजी, जरूर याद रखें ये 10 बातें

Cryptocurrency निवेश का पॉपुलर माध्यम बन चुकी हैं.

Cryptocurrency की दुनिया आज पिछले कुछ सालों के मुकाबले कहीं ज्यादा एक व्यवसाय में निवेश आम हो गई है. शंका, डर और अनिश्चितता के फेज़ से गुजरकर आज के वक्त में क्रिप्टोकरेंसी निवेशकों के बीच निवेश का एक पॉपुलर टूल बन गई हैं. यहां तक कि इन्हें लेकर बड़ी कंपनियों में स्वीकार्यता भी बढ़ी है और पेमेंट के अल्टरनेट मोड में क्रिप्टोकरेंसी (payment in cryptocurrency) को स्वीकारा जाने लगा है. हालांकि, इस सबके बावजूद क्रिप्टोकरेंसी अब भी जबरदस्त उतार-चढ़ाव (highly volatile) का शिकार होने वाला डिजिटल असेट है. ऐसे में इस बाजार में निवेश करने से पहले कुछ चीजें हैं जो जान लीजिए और जिनके लिए खुद को तैयार कर लेना चाहिए.

1. गहरी रिसर्च जरूरी

यह भी पढ़ें

सबसे पहली बात है कि निवेश से पहले अपनी रिसर्च पक्की रखिए. पैसे-रुपयों के मामले में यह सबसे कॉमन बात है. कहीं भी पैसा लगाने से पहले आपको उस माध्यम की पूरी जानकारी होनी ही चाहिए. लेकिन क्रिप्टोकरेंसी के लिए यह और भी जरूरी है क्योंकि यह मार्केट अभी नया है और ट्रेडिशनल निवेश के माध्यमों या तरीकों से काफी अलग है. इसलिए अलग-अलग क्रिप्टोकरेंसी के बारे में जान लीजिए. ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी को समझ लीजिए, जान लीजिए कि क्रिप्टोकरेंसी मार्केट में कैसे काम होता है.

2. हर इन्फॉर्मेशन को वेरिफाई करें

क्रिप्टोकरेंसी का मार्केट डिसेंट्रलाइज्ड मार्केट है और इसको कोई रेगुलेट भी नहीं करता. यानी कि इसको कोई एक संस्था या व्यक्ति कंट्रोल नहीं करता है, वहीं ट्रेडिशनल करेंसी की तरह कोई सरकार या सरकारी संस्था इसका नियमन भी नहीं देखती. यह पूरी तरह स्वतंत्र है. ऐसे में जवाबदेही आप पर ही आकर रुकती है. इसमें धोखाधड़ी और फर्जीवाड़े का डर होता है. ऐसे में किसी की बात में न आएं, किसी स्कीम के चक्कर में तो बिल्कुल न पड़े. हर जानकारी किसी विश्वसनीय स्रोत से ही लें और वेरिफाई करें.

3. अपनी रिसर्च पर भरोसा करें

क्रिप्टोकरेंसी मार्केट को लेकर अकसर कहते हैं कि 'इस बारे में कोई कुछ नहीं जानता है.' हालांकि, फिर भी मार्केट में ढेरों मार्केट एनालिटिक्स, ट्रेंड एक्सपर्ट्स और सोशल मीडिया इंफ्लुएंसर हैं, जो आपको क्रिप्टो मार्केट पर स्ट्रेटजी और टिप्स देते हुए मिलेंगे. लेकिन आपके लिए जरूरी है कि आप हर किसी की बात पर भरोसा न करें, अपनी रिसर्च को देखें और अपने पर्सनल फाइनेंस को देखते हुए स्ट्रेटजी बनाएं.

4. छोटे निवेश से शुरू करें

क्रिप्टो निवेश में शुरुआत करते वक्त ध्यान रखें कि शुरुआती चरण में एक ही क्रिप्टो के साथ स्टिक करें. इधर-उधर पैर फैलाने की कोशिश न करें. क्रिप्टोकरेंसी मार्केट में जबरदस्त उतार-चढ़ाव देखा जाता है, ऐसे में यही स्मार्ट होगा कि आप छोटे निवेश से शुरू करें. एक ही क्रिप्टो में निवेश करें और मार्केट की चाल को सीखें. जब थोड़ा कॉन्फिडेंट हो जाएं तब अपना निवेश बढ़ाएं.

5. थोड़ा धैर्य रखें

क्रिप्टोकरेंसी मार्केट की वॉलेटिलिटी यानी अस्थिरता के बारे में जितना चेताया जाए, उतना कम है. ऐसे में यह जरूरी है कि आप थोड़ा धैर्य रखें. मार्केट की चाल अच्छी है या बुरी, बदल जाएगी. हमेशा ठंडे दिमाग से रणनीति के तहत फैसले लें.

blockchain

6. एक नई ईमेल ID रखना बेहतर

क्रिप्टोकरेंसी ट्रेडिंग, क्रिप्टो एक्सचेंज पर या peer-to-peer नेटवर्क पर होती है. प्लेटफॉर्म्स पर ट्रेडिंग के लिए आपको ईमेल आईडी के जरिए अकाउंट खोलना पड़ता है. डेटा सुरक्षित रखने के लिए जरूरी है कि आप क्रिप्टो का अपना पूरा निवेश और ट्रेडिंग वगैरह एक दूसरे आईडी पर रखें. इसके लिए एक अलग ईमेल आईडी बना लें.

7. क्रिप्टोकरेंसी वॉलेट्स के बारे में पता होना चाहिए

क्रिप्टोकरेंसी को ऑनलाइन और ऑफलाइन वॉलेट में स्टोर किया जा सकता है. नए निवेशकों के लिए ऑनलाइन वॉलेट बेस्ट होता है, हालांकि, इसमें हैकिंग का डर ज्यादा होता है. ऐसे में दोनों वॉलेट को अच्छी तरह समझ लें और जो फिट लगे, वो चूज़ करें.

8. मोबाइल वॉलेट में अपनी पूरी करेंसी स्टोर न करें

इसमें कोई दोराय नहीं है कि मोबाइल वॉलेट्स बहुत ही सुविधाजनक होते हैं, लेकिन इनका हैक होना भी बहुत आसान होता है. ऐसे में कभी भी अपनी पूरी क्रिप्टोकरेंसी मोबाइल वॉलेट में स्टोर न करें.

9. क्रिप्टोकरेंसी पर टैक्स को मत भूलें

चूंकि क्रिप्टोकरेंसी पर किसी संस्था का नियमन नहीं होता है, ऐसे में इससे होने वाले प्रॉफिट पर आपको भारी टैक्स देना पड़ सकता है. ऐसे में क्रिप्टोकरेंसी निवेश और टैक्स को लेकर देश में क्या नियम हैं, वो सब जानने के बाद ही निवेश शुरू करें.

10. जल्दबाजी न करें

क्रिप्टोकरेंसी मार्केट लुभावना माध्यम है और बहुत से लोग हर दिन इसमें निवेश और ट्रेडिंग के लिए जुड़ रहे हैं, लेकिन इसका मतलब ये नहीं है कि आप भी इसमें कूद जाएं. अपने फाइनेंस का आकलन कर लें, नियमों को अच्छे से जान लें. इसके बाद निवेश शुरू करें. और क्रिप्टो को लेकर खबरों पर भी नजर रखें कि कहीं कुछ बदलाव तो नहीं हो रहे.

रेटिंग: 4.85
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 748
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *