भारत मे मुख्य ब्रोकिंग कंपनिया

विकल्प बाजार

विकल्प बाजार
– विकल्प ट्रेडिंग स्वाभाविक रूप से लचीला है। उनके विकल्पों के कॉन्ट्रैक्ट की समाप्ति से पहले, व्यापारी विभिन्न रणनीतिक चालों को की योजना बना सकते हैं। । इनमें उनके निवेश पोर्टफोलियो में जोड़ने के लिए शेयरों को खरीदने के विकल्पों का उपयोग करना शामिल है। निवेशक भी शेयर खरीदने की कोशिश कर सकते हैं और फिर लाभ पर उनमें से कुछ या सभी को बेच सकते हैं। वे कॉन्ट्रैक्ट को किसी अन्य निवेशक को उच्च दर पर बेच सकते हैं इससे पहले कि वह परिपक्व हो जाए और समाप्त हो जाए।

Call Options

'शेयर बाजार में निवेश'

Rakesh Jhunjhunwala News: राकेश झुनझुनवाला के दुर्भाग्यपूर्ण निधन के बाद अब फोकस शेयर बाजार में उनकी शेयरों की हिस्सेदारी पर आ गया है. शेयर बाजार के निवेशक और विश्लेषक हमेशा उनके एक-एक दांव पर नजर रखते थे. अब स्पॉटलाइट शेयर बाजार में उनकी लगभग 4 बिलियन डॉलर या साढ़े तीन हजार करोड़ की स्टॉकहोल्डिंग पर है.

शेयर बाजार के दिग्गज निवेशक राकेश झुनझुनवाला का रविवार सुबह निधन हो गया. भारत के वारेन बफे कहे जाने झुनझुनवाला का ‘नेटवर्थ’ 5.8 अरब डॉलर (46,000 करोड़ रुपये) था. सूत्रों के मुताबिक, उन्हें सुबह दिल का दौरा पड़ा था, जिसके बाद उन्हें अस्पताल ले जाया गया तो उन्हें मृत घोषित कर दिया गया. वह अपने पीछे पत्नी और तीन बच्चों को छोड़कर गए हैं. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने झुनझुनवाला के निधन पर शोक व्यक्त करते हुए कहा कि उन्होंने आर्थिक जगत में अपनी अमिट छाप छोड़ी है. जानें- कैसे उन्होंने 5000 रुपए के निवेश से शुरुआत करके अपनी नेटवर्थ को 46 हजार करोड़ के पार पहुंचाया.

Share buyback offer : सेबी का खुला बाजार विकल्प समाप्त करने का प्रस्ताव, अप्रैल 2025 से खत्म की जा सकती है यह व्यवस्था

Updated: November 18, 2022 8:25 AM IST

Share buyback offer

Share buyback offer : बाजार नियामक सेबी ने चरणबद्ध तरीके से खुले बाजार सौदों के जरिये शेयर पुनर्खरीद व्यवस्था को समाप्त करने के साथ-साथ समय अवधि कम करने का प्रस्ताव किया है. मौजूदा शेयर पुनर्खरीद प्रणाली में खामियों को दूर करने के लिये यह कदम उठाया गया है.

Also Read:

साथ ही, भारतीय प्रतिभूति एवं विनिमय बोर्ड (Sebi) ने कंपनियों के लिये अपने ‘फ्री रिजर्व’ यानी लाभांश के लिये उपलब्ध राशि से शेयर पुनर्खरीद को लेकर सीमा बढ़ाने, आमंत्रण आधार पर (Tender Route) दो पुनर्खरीद के बीच अंतराल को कम करने और कराधान संबंधित कंपनियों के बजाय शेयर की पेशकश करने वाले शेयरधारकों पर स्थानांतरित करने का प्रस्ताव किया है.

ये प्रस्ताव सेबी के परामर्श पत्र का हिस्सा है. इसपर संबंधित पक्षों से एक दिसंबर तक सुझाव मांगे गये हैं.

सेबी के अनुसार, पुनर्खरीद प्रक्रिया के लिये समय अवधि को अप्रैल, 2023 से कम कर 66 दिन किया जा सकता है. फिर से अप्रैल, 2024 से कम कर 22 कामकाजी दिवस किया जा सकता है. अंतत:, पुनर्खरीद प्रस्ताव के लिये खुली बाजार पेशकश व्यवस्था अप्रैल, 2025 से समाप्त की जा सकती है.

नियामक ने कहा, ‘‘मौजूदा नियम के तहत वर्तमान में पुनर्खरीद पेशकश आने की तारीख से उसके बंद होने के लिये छह महीने की अवधि दी गयी है. इसके परिणामस्वरूप इस तरह की विस्तारित अवधि के दौरान संबंधित कंपनी के शेयरों में कृत्रिम मांग पैदा हो सकती है और शेयर का कारोबार जरूरत से अधिक मूल्य पर हो सकता है. एक विस्तारित पुनर्खरीद अवधि से कुशल मूल्य की खोज पर असर पड़ता है.’’

विकल्प व्यापार क्या है

हिंदी

निवेश पोर्टफोलियो अक्सर विभिन्न परिसंपत्ति वर्गों से बना रहे हैं। आमतौर पर ये स्टॉक, म्यूचुअल फंड, ईटीएफ और बॉन्ड होते हैं। विकल्प अलग से एक संपत्ति वर्ग हैं। यदि उचित रूप से उपयोग किया जाता है, तो विकल्प ट्रेडिंग कई फायदे देता है करता है जो अकेले स्टॉक और बॉन्ड में काम विकल्प बाजार करने पर नहीं मिलते हैं इससे पहले कि हम इन लाभों के बारे में जाने,जानते हैं कि विकल्प क्या हैं?

विकल्प क्या हैं?

एक ‘विकल्प’ एक कॉन्ट्रैक्ट है जो किसी निवेशक को प्रतिभूति, ईटीएफ या इंडेक्स फंड जैसे उपकरणों को खरीदने या व्यापार करने की एक निर्दिष्ट अवधि के बाद पूर्व निर्धारित दर पर अनुमति लेकिन इसकी आवश्यकता नहीं होती है) देता है (। विकल्प बाजार में बेचना और खरीदना विकल्प हैं। एक विकल्प जो आपको भविष्य में कुछ समय के शेयरों को प्राप्त करने की अनुमति देता है, उसे “कॉल विकल्प” के रूप में जाना जाता है। दूसरी ओर, एक विकल्प जो आपको भविष्य में कभी-कभी शेयर बेचने में सक्षम बनाता है वह “पुट विकल्प” है।

विकल्प स्टॉक, इंडेक्स और कमोडिटी ट्रेडिंग में इस्तेमाल पारंपरिक वायदा अनुबंधों की तुलना में कम जोखिम उपकरणों माना जाता है। यह इस तथ्य के कारण है कि कोई किसी भी समय अपने विकल्प कॉन्ट्रैक्ट को त्यागने या वापस लेने का चयन कर सकता है। इसका यह भी अर्थ है कि, स्टॉक के विपरीत, विकल्प किसी कंपनी में स्वामित्व का प्रतिनिधित्व नहीं करते हैं। विकल्प का बाजार मूल्य (जिसे प्रीमियम भी कहा जाता है) इसलिए इसके अंदर की सुरक्षा या संपत्ति का एक हिस्सा है।

विकल्प ट्रेडिंग कैसे काम करता है?

जब कोई निवेशक या व्यापारी विकल्प खरीदता है या बेचता है, तो उन्हें समाप्ति की तिथि से पहले किसी भी बिंदु पर उस विकल्प को लागू करने का अधिकार होता है। बस किसी विकल्प को खरीदने या बेचने के लिए किसी को वास्तव में समाप्ति बिंदु पर इसका उपयोग करने की आवश्यकता नहीं होती है। इस संरचना के कारण, विकल्पों को ‘ डेरीवेटिव प्रतिभूति’ माना जाता है। दूसरे शब्दों में, कीमत विकल्प संपत्ति, प्रतिभूतियों, और अन्य अंतर्निहित उपकरणों के मूल्य की तरह अन्य बातों से ली गई है) है।

– विकल्प खरीदने के लिए स्टॉक प्राप्त करने की तुलना में कम प्रारंभिक व्यय की आवश्यकता होती है। एक विकल्प (प्रीमियम और ट्रेडिंग शुल्क) प्राप्त करने की कीमत एक व्यापारी एकमुश्त शेयर खरीदने के लिए खर्च करने के लिए होता है की तुलना में बहुत सस्ता है।

– विकल्प ट्रेडिंग निवेशकों को एक निश्चित अवधि के लिए एक निश्चित राशि पर अपने स्टॉक की कीमत फ्रीज करने की सुविधा देती है। उपयोग किए गए विकल्प की श्रेणी के आधार पर, निश्चित स्टॉक मूल्य (स्ट्राइक मूल्य के रूप में भी जाना जाता है) गारंटी देता है कि कोई विकल्प कॉन्ट्रैक्ट समाप्त होने से पहले किसी भी बिंदु पर उस दर पर व्यापार करने में सक्षम होगा।

लॉन्ग टर्म के निवेश के लिए इक्विटी अब भी सबसे बेहतर विकल्प, ये फैक्टर्स दे रहे संकेत

स्टॉक (Stocks) में जोख‍िम ज्यादा रहता है लेकिन इसमें एक अच्‍छी बात यह है कि जितनी लंबी अवध‍ि तक निवेश बनाए रहें, उतार-चढ़ाव का असर सीमित होता जाता है. इसलिए लॉन्ग टर्म में इक्विटी सबसे बेहतर एसेट क्‍लास हैं.

भारतीय शेयर बाजार में करीब 18 महीने तक की तेजी के बाद पिछले एक साल में मिलाजुला रुख देखा गया. बाजार में उतार-चढ़ाव वाला रहा है लेकिन इसके लिए यह कोई असामान्‍य बात नहीं है. एक एसेट क्‍लास के रूप में देखें तो स्टॉक (Stocks) में जोख‍िम ज्यादा रहता है लेकिन इसमें एक अच्‍छी बात यह है कि जितनी लंबी अवध‍ि तक निवेश बनाए रहें, उतार-चढ़ाव का असर सीमित होता जाता है. इसलिए लॉन्ग टर्म में इक्विटी सबसे बेहतर एसेट क्‍लास हैं.

कमोडिटीज की कीमतों में आई गिरावट

अब इस पर बहस की जा सकती है कि खासकर विकसित देशों विकल्प बाजार में मंदी या सुस्‍ती का असर कम रहेगा या व्‍यापक रहेगा, या महंगाई टिकने वाला होगा या कुछ समय के लिए. लेकिन कमोडिटीज और एनर्जी की कीमतों (ऊर्जा आयात का हिस्‍सा जीडीपी के 4 फीसदी तक होता है) में कमी आई है जो कुछ राहत की बात है. हम पूरे भरोसे से यह नहीं कह सकते कि मार्जिन का विकल्प बाजार दबाव कम हुआ है, लेकिन यह जरूर कह सकते हैं कि अब चीजें सही दिशा में जा रही हैं, कम से कम कमोडिटी उपभोग के मामले में.

हालांकि, कई ऐसे जोख‍िम हैं जिनका हमें ध्‍यान रखना होगा. पहला- अनिश्चित जियो-पॉलिटिकल चिंताएं और सप्‍लाई चेन की निरंतरता के मसले लंबे समय तक बने रहने वाले हैं. दूसरा- अब करीब एक दशक के कम ब्‍याज दरों और आसान नकदी के माहौल से ऊंची ब्‍याज दरों और नकदी में सख्‍ती वाले माहौल की तरफ बढ़ा जा रहा है. पहले जोख‍िम की वजह से महंगाई न सिर्फ भारत बल्कि पूरी दुनिया विकल्प बाजार के लिए चिंता है और हमनें यह देखा है कि केंद्रीय बैंक सख्‍त मौद्रिक नीतियों से इस पर अंकुश के लिए कोशिश में लगे हुए हैं.

शॉर्ट टर्म में बाजार भी दूसरे बाजारों के साथ ही चलेंगे

भारत में हमें कुछ और समस्‍याओं के शुरुआती संकेत मिल रहे हैं- विदेशी मुद्रा भंडार में गिरावट आ रही है, व्‍यापार घाटा ऊंचाई पर है और रुपए में काफी कमजोरी है. महंगाई लगातार ऊंचाई पर बनी हुई है और पिछले करीब तीन तिमाहियों से यह रिजर्व बैंक के 6% के सुविधाजनक स्‍तर से ऊपर है. कई दूसरे देशों के मुकाबले हमने बेहतर विकल्प बाजार प्रदर्शन किया है और हमारी ग्रोथ रेट भी बहुत अच्‍छी है, लेकिन अर्थव्‍यवस्‍था की इस अलग राह या बेहतरीन प्रदर्शन से जरूरी नहीं कि बाजार एक-दूसरे से जुड़े नहीं हों, भले ही प्रदर्शन कितना ही बढ़ि‍या हो. इसलिए इस बात से इंकार नहीं किया जा सकता है कि शॉर्ट टर्म में हमारे बाजार भी दूसरे बाजारों के साथ ही चलेंगे.

Zee Business Hindi Live TV यहां देखें

वैश्विक तरक्‍की में मौजूदा अनिश्चिचता के माहौल को देखते हुए बाजारों के लिए मौजूदा साल काफी चुनौतियों वाला हो सकता है. वैश्विक स्‍तर पर और भारत में ऊंची ब्‍याज दरों की वजह से शेयरों के वैल्‍युएशन में उस बढ़त पर जोख‍िम आ सकता है, जिसका हाल में भारतीय बाजारों को फायदा मिला है. इसके अलावा भारत के कई राज्‍यों में मानसून अनियमित रहने की वजह से खाद्य महंगाई भी ऊंचाई पर रहने की आशंका है.

कॉल विकल्पों की बारीकियां

स्टॉक पर विकल्प प्रदान करने के लिए, कॉल विकल्प ट्रेडर को किसी दिए गए मूल्य पर कंपनी के 100 शेयर खरीदने का अधिकार देता है, जिसे स्ट्राइक प्राइस कहा जाता है। हालाँकि, यह केवल एक विशिष्ट तिथि तक काम करता है, जिसे समाप्ति तिथि कहा जाता है।

उदाहरण के लिए, एक कॉल ऑप्शन अनुबंध के साथ, एक व्यापारी को टाटा कंपनी के 100 शेयर केवल 100 रुपये में खरीदने का अधिकार मिलता है, जो कि समाप्ति तिथि तक है, जो कि तीन महीने के भीतर है।

अब, एक ट्रेडर को चुनने के लिए विभिन्न स्ट्राइक मूल्य और समाप्ति तिथियां मिलती हैं। टाटा कंपनी के शेयरों के मूल्य बढ़ने के साथ, विकल्प अनुबंध की कीमत भी बढ़ जाती है और इसके विपरीत।

कॉल ऑप्शन ट्रेडर अनुबंध को समाप्त होने तक रख सकता है। और फिर, वे 100 स्टॉक शेयरों की डिलीवरी ले सकते हैं। यदि नहीं, तो वे मानक पर समाप्त होने विकल्प बाजार से पहले किसी भी समय विकल्प अनुबंध बेच सकते हैंमंडी कीमत।

साप्ताहिक और मासिक कॉल विकल्प

हाल ही में,सेबी और एक्सचेंज वित्तीय बाजार में एक नया उत्पाद लेकर आए, जिसे साप्ताहिक विकल्प के रूप में जाना जाता है। वे विशेष रूप से के संबंध में हैंबैंक निफ्टी। हर हफ्ते एक्सपायरी लाकर ऑप्शन रिस्क को कम करने की धारणा है।

दूसरी ओर, मासिक कॉल विकल्प एक मुख्यधारा की कवर की गई कॉल रणनीति है जो महीने के प्रत्येक अंतिम गुरुवार को समाप्त होती है।

आईटीएम और ओटीएम कॉल विकल्पों को परिभाषित करना

इन-द-मनी (आईटीएम) कॉल विकल्प वे हैं जहां बाजार मूल्य स्ट्राइक मूल्य से अधिक है। आउट-ऑफ-द-मनी (OTM) कॉल विकल्प वे हैं जहां बाजार मूल्य स्ट्राइक मूल्य से कम होता है।

उदाहरण के लिए, यदि आप इंफोसिस के लिए कॉल ऑप्शन खरीदते हैं और इसका बाजार मूल्य रु। 500 है, तो 460 आईटीएम कॉल ऑप्शन होगा, और 620 ओटीएम कॉल ऑप्शन होगा।

कॉल विकल्प मूल्य को प्रभावित करना

मूल रूप से, कई कारक कॉल विकल्प बाजार ऑप्शन की कीमत को प्रभावित कर सकते हैं। इनमें से बाजार मूल्य और स्ट्राइक मूल्य दो महत्वपूर्ण पहलू हैं। उनके अलावा, राजनीतिक घटनाएं भी बाजार में अस्थिरता और अनिश्चितता में योगदान कर सकती हैं; इसलिए, लागत में वृद्धि।

इसी तरह, अगर ब्याज दरों में कटौती होती है, तो यह मौजूदा स्ट्राइक मूल्य मूल्य को बढ़ा सकता है और बाजार मूल्य और स्ट्राइक मूल्य के बीच के अंतर को कम कर सकता है; इसलिए, कॉल विकल्पों पर नकारात्मक प्रभाव छोड़ता है।

रेटिंग: 4.50
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 758
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *