सर्वश्रेष्ठ CFD ब्रोकर्स

शेयर कैसे खरीदें और बेचे?

शेयर कैसे खरीदें और बेचे?
Hindionlinesite नवंबर 13, 2021

कैसे इंडियन स्टॉक्स में इन्वेस्ट करें या ट्रेडिंग करें (Buy Indian Stocks, Trading Tips)

यह आर्टिकल लिखा गया सहयोगी लेखक द्वारा Marcus Raiyat. मार्कस रैयत एक U.K., फॉरेन शेयर कैसे खरीदें और बेचे? एक्सचेंज शेयर कैसे खरीदें शेयर कैसे खरीदें और बेचे? और बेचे? ट्रेडर हैं और ये Logikfx के संस्थापक/CEO और इंस्ट्रक्टर भी हैं | लगभग 10 वर्षों के अनुभव के साथ मार्कस सक्रिय रूप से ट्रेडिंग फोरेक्स, स्टॉक्स और क्रिप्टो में भी माहिर हैं और CFD ट्रेडिंग, पोर्टफोलियो मैनेजमेंट और क्वांटिटेटिव एनालिसिस में विशेषज्ञ हैं | मार्कस ने एस्टोन यूनिवर्सिटी से मैथमेटिक्स में BS की डिग्री हासिल की है | Logikfx में इनके काम के लिए इन्हें ग्लोबल बैंकिंग और फाइनेंस रिव्यु के द्वारा "बेस्ट फोरेक्स एजुकेशन एंड ट्रेनिंग U.K. 2021 के रूप में नामांकित किया गया था |

share marketing क्या है | share कैसे खरीदें | शेयर मार्केटिंग में इन्वेस्ट कैसे करें.

Hindionlinesite नवंबर 13, 2021

share कैसे खरीदें | share marketing क्या है | शेयर मार्केटिंग में इन्वेस्ट कैसे करें -

सबसे पहले आपको शेयर मार्केटिंग के बारे में जानना चाहिए किस शेयर मार्केटिंग क्या है, शेयर मार्केटिंग क्या होता है आज हम आपको इस पोस्ट में यह बताएंगे किस शेयर मार्केटिंग में शेयर कैसे खरीदें और शेयर मार्केटिंग में शेयर कैसे बेचा जाता है यह तरीका आज हम इस पोस्ट में बताएंगे तो आप इस पोस्ट को अंत तक जरूर पढ़ें।

share marketing क्या है | share कैसे खरीदें | शेयर मार्केटिंग में इन्वेस्ट कैसे करें. Share market mein paisa Kaise lagaye, share marketing in Hindi in India, share market mein invest Karne Ka tarika, share marketing mein 2022 mein invest kaise karen

शेयर मार्केटिंग क्या है :-

Share marketing और stock marketing यह एक ऐसा marketing है जहां बहुत सी company के शेयर कैसे खरीदें और बेचे? share खरीदे हुए बेचे जाते हैं यहां से लोग बहुत ज्यादा पैसा कमा लेते हैं और कहीं लोग तो अपने पैसा भी गवा देते हैं अगर आप किसी भी company से share खरीद लेते हो तो आप भी उस company के हिस्सेदार बन जाते हो।

जिस शेयर कैसे खरीदें और बेचे? company में आप पैसे लगाते हो आपने कितने लगाए उसी के मुताबिक आप उस company के हो जाते हो जिसका मतलब यह है कि अगर आप उस कंपनी के भविष्य का मुनाफा होगा तो जो पैसा आप ने लगाया है उसका भी आपको दुगना पैसा मिलेगा।अगर कंपनी का पैसा डूब जाता है तो समझो आपका पैसा भी डूब गया मतलब आपका बिल्कुल नुकसान ही है।

जितना आसान पैसा कमाना है उतना आसान ही गवाना भी है। क्योंकि stock marketing में उतार चढ़ाव चलते ही रहते हैं तो आपको बिल्कुल समझ आ गया होगा कि share marketing क्या होता है अब हम आपको बताते हैं share कैसे खरीदते हैं और कैसे बेचे जाते हैं।

शेयर कैसे खरीदें :-

अगर आप घर बैठे शेयर खरीदना चाहते हैं तो आपको कुछ महत्वपूर्ण बातों को जाना जरूरी है। शेयर को खरीदने से पहले आपक शेयर के बारे में आपको अच्छे से जानकारी करना होगा।

जब शेयर मार्केट गिरता है तो कहां जाता है आपका पैसा? यहां समझिए इसका गणित

Share market: जब शेयर मार्केट डाउन होता है, तो निवेशकों का पैसा डूबकर किसके पास जाता है? क्या निवेशकों के नुकसान से किसी को मुनाफा होता है. आइए इसका जवाब बताते हैं.

  • शेयर मार्केट डिमांड और सप्लाई के फॉर्मूले पर काम करता है
  • अगर कंपनी अच्छा परफॉर्म करेगी तो उसके शेयर के दाम बढ़ेंगे
  • राजनीतिक घटनाओं का भी शेयर मार्केट पर पड़ता है असर

alt

5

alt

6

alt

5

alt

5

जब शेयर मार्केट गिरता है तो कहां जाता है आपका पैसा? यहां समझिए इसका गणित

नई दिल्ली: आपने शेयर मार्केट (Share Market) से जुड़ी तमाम खबरें सुनी होंगी. जिसमें शेयर मार्केट में गिरावट और बढ़त जैसी खबरें आम हैं. लेकिन कभी आपने सोचा है कि जब शेयर मार्केट डाउन होता है, तो निवेशकों का पैसा डूबकर किसके पास जाता है? क्या निवेशकों के नुकसान शेयर कैसे खरीदें और बेचे? से किसी को मुनाफा होता है. इस सवाल का जवाब है नहीं. आपको बता दें कि शेयर मार्केट में डूबा हुआ पैसा गायब हो जाता है. आइए इसको समझाते हैं.

कंपनी के भविष्य को परख कर करते हैं निवेश

आपको पता होगा कि कंपनी शेयर मार्केट में उतरती हैं. इन कंपनियों के शेयरों पर निवेशक पैसा लगाते हैं. कंपनी के भविष्य को परख कर ही निवेशक और विश्लेषक शेयरों में निवेश करते हैं. जब कोई कंपनी अच्छा प्रदर्शन करती है, तो उसके शेयरों को लोग ज्यादा खरीदते हैं और उसकी डिमांड बढ़ जाती है. ऐसे ही जब किसी कंपनी के बारे में ये अनुमान लगाया जाए कि भविष्य में उसका मुनाफा कम होगा, तो कंपनी के शेयर गिर जाते हैं.

डिमांड और सप्लाई के फॉर्मूले पर काम करता है शेयर

शेयर मार्केट डिमांड और सप्लाई के फॉर्मूले पर काम करता है. लिहाजा दोनों ही परिस्‍थितियों में शेयरों का मूल्‍य घटता या बढ़ता जाता है. इस बात को ऐसे लसमझिए कि किसी कंपनी का शेयर आज 100 रुपये का है, लेकिन कल ये घट कर 80 रुपये का हो गया. ऐसे में निवेशक को सीधे तौर पर घाटा हुआ. वहीं जिसने 80 रुपये में शेयर खरीदा उसको भी कोई फायदा नहीं हुआ. लेकिन अगर फिर से ये शेयर 100 रुपये का हो जाता है, तब दूसरे निवेशक को फायदा होगा.

कैसे काम करता है शेयर बाजार

मान लीजिए किसी के पास एक अच्छा बिजनेस आइडिया है. लेकिन उसे जमीन पर उतारने के लिए पैसा नहीं है. वो किसी निवेशक के पास गया लेकिन बात नहीं बनी और ज्यादा पैसे की जरूरत है. ऐसे में एक कंपनी बनाई जाएगी. वो कंपनी सेबी से संपर्क कर शेयर बाजार में उतरने की बात करती है. कागजी कार्रवाई पूरा करती है और फिर शेयर बाजार का खेल शुरू होता है. शेयर बाजार में आने के लिए नई कंपनी होना जरूरी नहीं है. पुरानी कंपनियां भी शेयर बाजार में आ सकती हैं.

शेयर का मतलब हिस्सा है. इसका मतलब जो कंपनियां शेयर बाजार या स्टॉक मार्केट में लिस्टेड होती हैं उनकी हिस्सेदारी बंटी रहती है. स्टॉक मार्केट में आने के लिए सेबी, बीएसई और एनएसई (नेशनल स्टॉक एक्सचेंज) में रजिस्टर करवाना होता है. जिस कंपनी में कोई भी निवेशक शेयर खरीदता है वो उस कंपनी में हिस्सेदार हो जाता है. ये हिस्सेदारी खरीदे गए शेयरों की संख्या पर निर्भर करती है. शेयर खरीदने और बेचने का काम ब्रोकर्स यानी दलाल करते हैं. कंपनी और शेयरधारकों के बीच सबसे जरूरी कड़ी का काम ब्रोकर्स ही करते हैं.

निफ्टी और सेंसेक्स कैसे तय होते हैं?

इन दोनों सूचकाकों को तय करने वाला सबसे बड़ा फैक्टर है कंपनी का प्रदर्शन. अगर कंपनी अच्छा परफॉर्म करेगी तो लोग उसके शेयर खरीदना चाहेंगे और शेयर की मांग बढ़ने से उसके दाम बढ़ेंगे. अगर कंपनी का प्रदर्शन खराब रहेगा तो लोग शेयर बेचना शुरू कर देंगे और शेयर की कीमतें गिरने लगती हैं.

इसके अलावा कई दूसरी चीजें हैं जिनसे निफ्टी और सेंसेक्स पर असर पड़ता है. मसलन भारत जैसे कृषि प्रधान देश में बारिश अच्छी या खराब होने का असर भी शेयर मार्केट पर पड़ता है. खराब बारिश से बाजार में पैसा कम आएगा और मांग घटेगी. ऐसे में शेयर बाजार भी गिरता है. हर राजनीतिक घटना का असर भी शेयर बाजार पर पड़ता है. चीन और अमेरिका के कारोबारी युद्ध से लेकर ईरान-अमेरिका तनाव का असर भी शेयर बाजार पर पड़ता है. इन सब चीजों से व्यापार प्रभावित होते हैं.

रेटिंग: 4.37
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 194
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *